चीनी बाल कोष गरीब बच्ची के लिये मुफ्त शिक्षा देगा

2017-10-19 10:23:00

11 अक्तूबर को छठा अंतर्राष्ट्रीय बच्ची दिवस है। चीनी बाल कोष द्वारा 10 अक्तूबर को पेइचिंग में जारी अध्ययन रिपोर्ट में यह कहा गया है कि व्यावसायिक शिक्षा गरीब क्षेत्रों में विद्यार्थियों की श्रम क्षमता को उन्नत करने और तेजी से गरीबी को दूर करने का कारगर तरीका बन गयी। उसी दिन शुरू छूनलेइ कॉलेज नामक लोकोपकार कार्यक्रम मुफ्त रूप से गरीबी बच्चियों के लिये व्यावसायिक शिक्षा देगा और उन के लिये व्यावसायिक योजना बनाएगा। इस कार्यक्रम में ग्रामीण क्षेत्र, जातीय क्षेत्र व गरीब क्षेत्र की बच्चियां शामिल हुई हैं।

उसी दिन आयोजित संवाददाता सम्मेलन में पेइचिंग नॉर्मल विश्वविद्यालय के चीनी लोकोपकार अनुसंधान प्रतिष्ठान के उप प्रधान काओ यूरोंग ने कहा कि व्यावसायिक शिक्षा गरीबी क्षेत्रों में विद्यार्थियों की श्रमिक क्षमता को उन्नत करने और गरीबी को दूर करने का कारगर उपाय बन गयी।

उन के अनुसार चीन की व्यावसायिक शिक्षा व्यवस्था की सुनिश्चितता में सामाजिक संगठन व व्यावसायिक कॉलेज ने अपनी श्रेष्ठता से लाभ उठाकर बहुत कारगर गतिविधियों का आयोजन किया। व्यावसायिक कॉलेजों से स्नातक होने वाले विद्यार्थियों की रोजगार दर स्पष्ट रूप से यूनिवर्सिटी से स्नातक होने वाले विद्यार्थियों से और ज्यादा ऊंची है।

चीनी बाल कोष और पेइचिंग नॉर्मल विश्वविद्यालय द्वारा संयुक्त रूप से किये गये अनुसंधान से यह पता चला कि व्यावसायिक शिक्षा गरीब बच्चियों को ज्यादा सहायता दे सकती है। लेकिन इसके सामने शहरों व गांवों के बीच बड़ा फर्क, मांग व आपूर्ती का असंतुलन, और व्यावसायिक निर्देशन का अभाव आदि चुनौतियां मौजूद हैं। ऐसी स्थिति में चीनी बाल कोष ने छूनलेइ कॉलेज नामक लोकोपकार कार्यक्रम शुरू किया। यह कार्यक्रम समाज के विभिन्न जगतों के संसाधन पर निर्भर करके गरीबी क्षेत्रों में बच्चियों के लिये भविष्य में रोजगार से जुड़ी व्यावसायिक शिक्षा व प्रशिक्षण देगा।

जानकारी के अनुसार चीनी बाल कोष के छूनलेइ कार्यक्रम लागू किये जाने के बाद 28 वर्षों में कुल 30 लाख गरीबी बच्चियों को इस कार्यक्रम से लाभ मिला है। इस कार्यक्रम ने गरीबी क्षेत्रों में शिक्षा की स्थिति का सुधार करने में सकारात्मक योगदान दिया है।

कैलेंडर

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी