यूरोपीय संघ में महिला प्रधानमंत्री का स्वागत शायद होगा

2019-07-10 11:42:00

दोस्तों, मैराथन जैसे संवाद के बाद यूरोपीय संघ के नेताओं ने स्थानीय समयानुसार 2 जुलाई को अंत में कई उच्च पदों के उम्मीदवारों पर सहमति बनायी। उन में सब से ध्यानाकर्षक पद तो यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष का है, जिसे यूरोपीय संघ का प्रधानमंत्री माना जाता है। इस बार यह पद शायद पहली बार एक महिला संभालेंगी।

हर पाँच वर्षों में यूरोपीय संघ में उच्च स्तरीय पदों के प्रधान बदलते हैं। वर्ष 2019 तो ऐसा वर्ष है। स्थानीय समयानुसार 2 जुलाई की रात को यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष डोनाल्द टुस्क ने विशेष तौर पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यूरोपीय संघ का फैसला सुनाया। उन के अनुसार,हमने यूरोपीय आयोग के अगले अध्यक्ष के लिये उरसुला वोन देर लेयेन को नामांकित किया, और यूरोपीय केंद्रीय बैंक के गवर्नर के लिये क्रिस्टीन लागार्दे को नामांकित किया। साथ ही हमने चार्ल्स मिचेल को अगले यूरोपीय परिषद का अध्यक्ष चुना है। अब यूरोपीय संसद यह फैसला करेगी कि उरसुला वोन देर लेयेन यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष बनेंगी या नहीं। अगर वह बनती हैं, तो वह यूरोपीय आयोग के इतिहास में पहली महिला नेता होंगी।

अभी वोन देर लेयेन जर्मन रक्षा मंत्री हैं। यूरोपीय संघ की नीति-नियम के अनुसार यूरोपीय परिषद से नामांकन प्राप्त करने के बाद यूरोपीय संसद फिर इस नाकांकन पर मतदान करेगी। सभी लोगों को आश्चर्य है कि वोन देर लेयेन को नामांकित किया गया है। इससे पहले यूरोपीय आयोग के प्रथम उपाध्यक्ष, डच फ़्रांस टिम्मेरमांस को फ़्रांस व जर्मनी आदि यूरोपीय संघ के अधिकतर देशों का समर्थन मिला। आम राय है कि वे यूरोपीय आयोग के अगले अध्यक्ष के सब से शक्तिशाली प्रतियोगी हैं। पर अंत में वे बाहर हट गये जिस का मुख्य कारण यह है कि पोलैंड व हंगरी आदि पूर्व यूरोपीय देशों ने उन का कड़ा विरोध किया। यूरोपीय संघ की नीति-नियम के अनुसार यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष बनने का नामांकन मिलने के लिये उम्मीदवार को 28 सदस्य देशों में 72 प्रतिशत से अधिक सदस्य देशों का समर्थन प्राप्त करना होगा। साथ ही उन सदस्य देशों की कुल जनसंख्या यूरोपीय संघ की कुल जनसंख्या के 65 प्रतिशत से कम नहीं होगा।

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी