शी चिनफिंग की नजर में अध्यापक और शिक्षा कार्य

2021-05-14 18:25:13

अपने अध्यापकों को याद करते हुए चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा था कि जिन्होंने मुझे सिखाया है, अब तक वो मेरे दिल में बसे हुए हैं। उन्होंने मुझे ज्ञान दिया और मुझे समाज में व्यवहार करना सिखाया, जिससे मुझे अपार लाभ मिला। देश के नेता बनने के बाद शी चिनफिंग ने कई बार स्कूल और क्लासरूम जाकर अध्यापकों और छात्रों के साथ बातचीत की। उन्होंने कहा कि 100 साल की बड़ी रणनीति शिक्षा है और शिक्षा की बड़ी रणनीति अध्यापक आधारित है। उनके दिल में शिक्षा कार्य हमेशा प्राथमिक विकास के स्थान पर बना हुआ है।

वर्ष 2016 में शिक्षक दिवस से पहले उन्होंने पेइचिंग में पा यी यानी 1 अगस्त स्कूल जाकर वहां के अध्यापकों और छात्रों से मिले। इस स्कूल में शी चिनफिंग ने प्राइमरी स्कूल और मिडिल स्कूल में समय बिताया। सेवानिवृत अध्यापक चन चोंगहान, चेन यिंगछ्यो समेत कई अध्यापकों ने उन्हें शिक्षा का पाठ पढ़ाया था। इस बार स्कूल में फिर मिलते समय वे बहुत खुश थे।

शी चिनफिंग ने कहा, “आज मैं फिर स्कूल वापस लौटा, तो स्नेहपूर्ण भावना प्राकृतिक रूप से उमड़ पड़ी। मैंने पहले का स्थान देखा और यादें फिर ताजा हो गयी। मुझे उस समय के जीवन की बड़ी याद है। उस समय के अध्यापकों ने जो मुझे सिखाया, स्कूल की भावना और शैली, उनसे मुझ पर गहरा प्रभाव पड़ा। चाहे मैं कहीं भी जाऊं, मुझे गृहस्कूल की यादें अभी भी ताजा है। मैं गृहस्कूल के साथ हमेशा संपर्क बनाए रखता हूं।”

स्कूल का दौरा करने के बाद अध्यापकों और छात्रों के साथ हुई बैठक में शी चिनफिंग ने आशा व्यक्त की कि व्यापक अध्यापकों को छात्रों के चरित्र निर्माण, ज्ञान सीखने, नवाचार करने और मातृभूमि में योगदान देने वाले मार्गदर्शक बनना चाहिए। उन्होंने कहा, “अच्छा अध्यापक मिलना जीवन का सौभाग्य है। एक स्कूल में अच्छे अध्यापक होना स्कूल का गौरव है। एक राष्ट्र में पीढ़ी दर पीढ़ी के अच्छे अध्यापकों का उभरना एक राष्ट्र की आशा है।”

न्यूज़ व्यापार पर्यटन बाल-महिला स्पेशल विश्व का आईना चीनी भाषा सीखें वीडियो फोटो गैलरी